योग साधना केवल शरीर ही नही जीवन की सफलता का है मूलमंत्र-धामी

योग साधना केवल शरीर ही नही जीवन की सफलता का है मूलमंत्र-धामी

देहरादून। 8वे अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में आयुर्वेदिक एवं यूनानी विभाग (आयुष विभाग) द्वारा घण्टाघर से दर्शनलाल चैक, दून हास्पिटल एवं एम०के०पी०इन्टर कालेज तक आयोजित “रन फाॅर योग” में  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी  द्वारा प्रतिभाग कर शुभारम्भ किया गया।
इस अवसर पर  विधायक खजानदास, विनोद चमोली, नगर निगम मेयर सुनील उनियाल गामा, पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार, सचिव आयुष पंकज पांडे,  निदेशक आयुर्वेद ए. के त्रिपाटी, अपर जिलाधिकारी एस के बरनवाल व के के मिश्रा, जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डाॅ0 मिथिलेश सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों ने प्रतिभाग किया।
इस अवसर पर  मुख्यमंत्री श्री धामी ने  प्रधानमंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उनके प्रयासों से ही आज पूरे विश्व में  21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है।  उन्होंने सभी लोगों को अपनी दिनचर्या में योग एवं व्यायाम को  शामिल करने का अनुरोध करते हुए कि कहा कि योग एक जीवन पद्धति है जिससे शरीर में स्वस्थ रहने की मानसिकता बनी रहती है। योग केवल कार्यक्रम की औपचारिकता ना रहे बल्कि इसे अपने जीवन में नियमित रूप से आत्मसात करें। उन्होंने सभी को संकल्प दिलाया कि अपने जीवन में प्रतिदिन एक घंटा योग एवं व्यायाम के लिए निकालें। उन्होंने कहा कि  छात्र/छात्राओं का इस कार्यक्रम में उत्साह देखकर अच्छा लगा अपने बचपन को याद करते हुए कहा कि जब कभी राष्ट्रीय पर्व एवं प्रभातफेरी मेें प्रतिभाग करना होता था तो हम भी बहुत उत्साहित रहते थे जल्द ही मंजिल तक पहुंचने की ललक बनी रहती थी इसके लिए कतार में लगकर उत्साह पूर्वक प्रतिभाग किया करते थे। उन्होंने कहा कि सरकार देहरादून को क्लीन सिटी, ग्रीन सिटी एवं ड्रीम सिटी बनाने की कार्ययोजना पर कार्य कर रही है हमारा प्रयास है कि दून शहर को हिंदुस्तान के आदर्श शहरों में शामिल करना है। राज्य को इकोलॉजी व इकोनामी के साथ समन्वय बनाते हुए आगे बढ़ना है तथा राज्य को 2025 तक आत्मनिर्भर बनाना है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि देहरादून से दिल्ली को जोड़ने वाली एलिवेटेड कॉरिडोर का निर्माण प्रगति पर जो कि जल्द ही तैयार हो जाएगा, जिससे देहरादून से दिल्ली तक का सफर 2 घंटे में तय किया जा सकेगा तथा भविष्य में हमारे राज्य एवं जनपद देहरादून में अधिक पर्यटकों की आने की संभावना है जिसके लिए हमें पूर्व में ही संसाधनों एवं व्यवस्थाओं में सुधार लाना होगा।
उन्होंने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति एवं विकास हुआ है उन्होंने कहा कि वर्ष 2013 की केदारनाथ आपदा के बाद केदारबाबा का प्रांगण पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त हो गया था जो अब नया एवं भव्य बनाया गया है बद्रीनाथ में भी नव निर्माण हेतु कार्य योजना तैयार की गई है।
जनपद के घंटाघर से प्रारंभ हुई ‘रन फॉर योग’ में एनएसएस, एनसीसी, स्काउट गाइड, उत्तरांचल आयुर्वेदिक कॉलेज, शिवालिक आयुर्वैदिक कॉलेज व आयुर्वेदिक विश्वविद्यालय के छात्र छात्राओं सहित जनपद के विभिन्न विभागों के कार्मिकों सहित लगभग 800 प्रतिभागियों ने प्रतिभाग किया गया।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )